Quotes

Zakir Khan Shayari in Hindi and English

Zakir Khan Shayari

Zakir Khan Shayari in Hindi and English

Zakir Khan, the maestro of emotional expression through words, has left an indelible mark on the world of Shayari in both Hindi and English. His poetic verses, which resonate with emotions, have touched the hearts of millions. In this article, we take you on a journey through the captivating realm of Zakir Khan Shayari, exploring the beauty of his verses, the nuances of his language, and the emotions he evokes.

Zakir Khan Shayari in Hindi

खुदा के वास्ते उसे कभी टोकना मत,
उसकी आज़ादी से उसे कभी रोक न देना,
क्यकि अब मैं नहीं तुम उसके दिलदार हो तो सुन लो,
उसे अच्छा नहीं लगता..!!
बस का इन्तज़ार करते हुए मेट्रो में खड़े खड़े,
रिक्शा में बैठे हुए गहरे शून्य में क्या देखते हो,
गुम सा चेहरा लिए हुए क्या सोचते रहते हो..!!
मैं जाउ इस दुनिया से तोँ दास्तान सुनाना,
ये भी बताना की समंदर जितने से पहले,
कैसे मैं छोटी छोटी नदियों से हारा था..!!
मैं वक़्त और तुम क़यामत. देखना,
जब हम मिलेंगे तो इस कायनात में सब कुछ रुक जायेगा..!!
जितना तेज़ाब मिला दुनिया से, उसी की शराब बेचता हूँ,
ज़िल्लतें छतों पर टांग, अस्मा को खाब बेचता हूँ..!!
मोह्हबत करो बहोत,
लेकिन खुद के इज़्ज़त के साथ करो..!!
रास्ते भी खुद है ढूँढे, और मंज़िल भी खुद बनायीं,
आप उसे किताबों में डालकर मुश्किल न कीजिये..!!
तेरी शर्तः पे ही करना है अगर तुझ को क़ुबूल,
ये सहूलत तो मुझे सारा जहाँ देता है..!!
हम से पूछो न दोस्ती का सिला,
दुश्मनों का भी दिल हिला देगा..!!
मित्रता कभी दर्पण से अधिक समय तक नहीं रहती है,
इस तरह की ईमानदारी भी रिश्तों के लिए ठीक नहीं है..!!
तेरी बेवफ़ाई के अंगारों में लिपटी रही यह रूह मेरी,
मैं इस तरह आग न होता, जो होजाती तू मेरी..!!
बहुत मासूम लड़की है इश्क़ की बात नहीं समझती न जाने,
किस दिन में खोयी रहती, मेरी रात नहीं समझती..!!
मेरी जमीन तुमसे गहरी रही है,
वक़्त आने दो, आसमान भी तुमसे ऊंचा रहेगा..!!
मेरी औकात मेरे सपनों से इतनी बार हारी हैं के,
अब उसने बीच में बोलना ही बंद कर दिया है..!!
अब कोई हक़ से हाथ पकड़कर महफ़िल में दोबारा नहीं बैठाता,
सितारों के बीच से सूरज बनने के कुछ अपने ही नुकसान हुआ करते है..!!
वो तितली की तरह आयी और ज़िन्दगी को बाग कर गयी,
मेरे जितने भी नापाक थे इरादे, उन्हें भी पाक कर गयी..!!
तुमसे बड़ी नाराजगी है मुझे अब देखो ना,
तुम्हारे नर्म होठो की मिसाल नहीं मिली और मेरे असर अधूरे रह जाते हैं..!!
इश्क़ को मासूम रहने दो नोटबुक के आख़री पन्ने पर,
आप उसे किताबों म डाल कर मुस्किल ना कीजिए..!!
ये तो परिंदों की मासूमियत है,
वरना दूसरों के घर अब आता जाता कौन हैं..!!
अपने आप के भी पीछे खड़ा हूँ में,
ज़िन्दगी कितने धीरे चला हूँ मैं,
और मुझे जगाने जो और भी हसीं होकर आते थे,
उन् ख़्वाबों को सच समझकर सोया रहा हूँ मैं..!!
हर एक दस्तूर से बेवफाई मैंने शिद्दत से हैं निभाई,
रास्ते भी खुद हैं ढूंढे और मंजिल भी खुद बनाई..!!
कामयाबी तेरे लिए हमने खुद को कुछ यूं तैयार कर लिया,
मैंने हर जज़्बात बाजार में रख कर एश्तेहार कर लिया..!!
तेरी वेवफाई की अंगारो में लिपटी हुयी है रूह मेरी ,
मैं इस तरह आग न होता जो तुम हो जाती मेरी,
हरेक सांस पे दहक जाता था सोला दिल का,
सायद हवा में फैली है खुशबु तेरी..!!
अपने आप के भी पीछे खड़ा हु मैं,
ज़िंदगी कितना धीरे चला आ रहा है,
मुझे जगाने जो और भी हसीं होके आते थे,
उन खवाबो को सच समझकर सोया मैंने..!!
मेरी जमीन तुमसे गहरी रही है,
वक़्त आने दो, आसमान भी तुमसे ऊंचा रहेगा..!!
तुम भी कमाल करते हों,
उम्मीदें इंसान से लगा कर,
शिकवे भगवान से करते हो..!!
यूँ तोह भूले हैं हम लोग कई पहले भी बहुत से,
पर तुम जितना कोई उनमें से कभी याद नहीं आया..!!
मेरे कुछ सवाल है जो सिर्फ क़यामत के रोज पूछूँगा तुमसे,
क्युकी उसके पहले तुम्हारी और मेरी बात हो सके,
इस लायक नहीं हो तुम..!!
क्या अपनी छोटी अंगुली से उसका,
हाथ भी थाम लिया करती हो,
क्या वैसे ही जैसा मेरा थामा करती थी..!!
हम से पूछो न दोस्ती का सिला,
दुश्मनों का भी दिल हिला देगा..!!
हम से पूछो न दोस्ती का सिला,
दुश्मनों का भी दिल हिला देगा..!!
यूं तो भूले हैं हमें लोग कई, पहले भी बहुत से,
पर तुम जितना कोई उन्मे सें, कभी याद नहीं आया..!!
हर एक दस्तूर से बेवफाई, मैं शिद्दत से है निभाई,
रास्ते भी खुद है ढूँढे, और मंज़िल भी खुद बनायीं..!!
जब कभी याद आया करे तुमको तो मेरी लिखी कविताएं पढ़ लेना,
बस एक वही तो जगह है, जहाँ झूठ नहीं बोले है मैंने कभी..!!
मोहब्बत करो बहोत,
लेकिन खुद के इज्जत के साथ करो..!!
वो रिश्ता मेरे लिए 2 के पहाड़े जैसा,
पर उसे लिए 19 का टेबल हो गया है,
मुझसे भूला नहीं जाता, उसे याद दिलाना पड़ता है..!!
मेरी औकात मेरे सपनों से इतनी बार हारी हैं के,
अब उसने बीच में बोलना ही बंद कर दिया है..!!
ज़मीन पर आ गिरे जब आसमां से ख़्वाब मेरे,
ज़मीन ने पूछा क्या बनने की कोशिश कर रहे थे..!!
हर एक दस्तूर से बेवफाई मैंने शिद्दत से हैं निभाई,
रास्ते भी खुद हैं ढूंढे और मंजिल भी खुद बनाई..!!
एक अरसे से हूं थामे कस्ती को भवार,
तूफान से भी ज्यादा साहिल से सिहरता हु..!!
जरूरी नहीं कि हर मेहनत कामयाबी ले आए,
कुछ कोशिशें तैयारी के लिए भी होती है..!!
अब वो आग नहीं रही ना शोलो सा देहेक्ता हूं,
रंग भी सबके जैसे है और सब के जैसा है महकता है..!!
वो रिस्ता मेरे लिए दो का पहारा है,
उसके लिए सेवेनटीन का टेबल हो गया,
उससे याद दिलाना पड़ता मुझसे भुला नहीं जाता..!!
तेरा बेवफा होना मेरे रब को भा गया,
तूने मुझे छोड़ा देख मैं कहाँ आ गया..!!
मेरे इश्क़ से मिली है तेरे हुस्न को ये शोहरत,
तेरा ज़िक्र ही कहां था , मेरी दास्तान से पहले..!!
लूट रहे थे खजाने मां बाप की छाव मे,
हम कुड़ियों के खातिर, घर छोड़ के आ गए..!!
गर यकीन ना हों तो बिछड़ कर देख लो,
तुम मिलोगे सबसे मगर हमारी ही तलाश में..!!
भूख देखी है देखि है तिरस्कार करती आँखे,
कदमो से चल चल के रास्तो को नाम बदलते देखा है..!!
क्या वो आग नहीं रही न सोलो से दहकता हु,
रंग भी सब जैसा है सब जैसा ही तो महकता हु..!!
ए बड़े शहर तेरा बहुत कर्जा है मुझपर,
सब चुकाऊंगा बारी बारी से..!!
गर यकीन ना हों तो बिछड़ कर देख लो,
तुम मिलोगे सबसे मगर हमारी ही तलाश में..!!
यु तो भले हैं लोग हमे पहले भी बहुत से,
पर तुम जितना उनमे से कोई याद नहीं आता..!!
देखि है न उम्मीदी अपमान देखा है,
न चाहते हुए भी माँ बाप का झुकता,
आत्म सम्मान देखा है सपनो को टूटते,
देखा है अपनों को छूटते देखा है..!!
मेरे दो चार खुवाब है जिन्हे मैं आसमा से दूर चाहता हु,
ज़िंदगी चाहे गुमनाम रहे, लेकिन मौत मैं मशहूर चाहता हु..!!
मेरा सब बुरा भी कहना अच्छा भी सब बताना,
जाउ जब इस दुनिया से मेरा दास्तान सुनाना..!!
बता देना सबको की मैं मतलबी बहुत बड़ा था,
बड़ी मुकाम पे मैं तनहा खड़ा था..!!
मझे गुड नाइट कहने के वाद भी ऑनलाइन रहना तेरा,
समझा लेता हु खुद को मगर इधर चुभता बहुत है..!!
तेरी फुर्सत के इंतज़ार में रहता हु,
मैं प्रदेश में रहकर भी प्यार में रहता है,
और बस एक तेरी मर्जी से बदलेगी किस्मत मेरी,
वर्णा मैं जीतकर भी हार में रहता हु..!!
हालत की बंजर ज़मी फार कर निकला हु,
बेफिकर रहिये मैं सोहरत के धुप में नही जलूँगा..!!
जानते हो अगर वो हजार वार जुल्फे,
न सवारे तो उसका गुजारा नहीं होता,
ऐसे दिल बहुत साफ़ है उनका,
इन हरकतों पे गुजारा नहीं होता..!!
हर एक सांस से दहक जाता है सोला दिल का,
सायद ये हवा में फैली है खुशबु तेरी..!!
बे वजह बेवफाओं को याद किया है,
ग़लत लोगों पे बहुत वक़्त बर्बाद किया है..!!
दिल तो रोता रहे ओर आँख से आँसू न बहे,
इश्क़ की ऐसी रिवायात ने दिल तोड़ दिया..!!
अब वह आग नहीं रही, न शोलों जैसा देहेकता हूँ,
रंग भी सब के जैसा है, सबसे ही तो महेकता हूँ..!!
एक अर्से से हूँ थामे, कश्ती को भंवर में,
तूफ़ान से भी ज्यादा, साहिल से सिहरता हूँ..!!
लो खरीद लो अब इससे कीमती कुछ भी नहीं है मेरे पास,
की जिसमे रखा था गुलाब, हमने वो किताब बेच दिया है..!!
बड़े महंगे थे पर अब सस्ते में नहीं आएंगे,
आज के बाद तेरे रस्ते में नहीं आएंगे..!!
लहू के थे जो रिश्ते उन्हें छोड़के आ गए,
सुकु आँखों के सामने था मुँह मोड़ के आ गए,
और खजाने लूट रहे थे माँ बाप की छाँव में,
हम कौड़ियों के खातिर घर छोड़ के आये..!!
माना की तुमको इश्क़ का तजुर्बा भी कम नहीं,
हमने भी बाग़ में हैं कई तितलियाँ उड़ाई..!!
ये खत है उस गुलदान के नाम,
जिसका फूल कभी हमारा था,
ये अब तुम उसके मुख्तार हो तो सुन लो,
उसे अच्छा नहीं लगता..!!
यु तो भूले हैं हमे लोग कई हमे पहले भी बहुत से,
पर तुम जितना उनमे से कभी कोई याद नहीं या..!!
बड़ी कश्मकश में है ये जिंदगी की,
तेरा मिलना मिलना इश्क़ था या फरेब..!!
दिलों की बात करता है ज़माना,
पर आज भी मोहब्बत चेहरे से ही शुरू होती हैं..!!
बे वजह बेवफाओं को याद किया है,
ग़लत लोगों पे बहुत वक़्त बर्बाद किया है..!!
माना कि तुम को भी इश्क़ का तजुर्बा काम नहीं,
हमनें भी तो बगों में हैं कई तितलियां उड़ाई..!!
हज़ारो खुआइसे ऐसी की कर खुवाईसे में दम निकले,
बहुत निकल गए अरमान फिर भी कम निकले..!!
वेबजह वेबफ़ाओ को याद किया है,
गलत लोगो पर बहुत वक़्त बर्वाद किया है..!!
अब वो आग नहीं रही, न शोलो जैसा दहकता हूँ,
रंग भी सब के जैसा है, सबसे ही तो महेकता हूँ,
एक आरसे से हूँ थामे कश्ती को भवर में,
तूफ़ान से भी ज्यादा साहिल से डरता हूँ..!!
मेरी अपनी और उसकी आरज़ू में फर्क ये था,
मुझे बस वो और उसे सारा जमाना चाहिए था..!!
इश्क़ किया था, हक से किया था,
सिंगल भी रहेंगे तो हक से..!!
जिंदगी से कुछ ज्यादा नहीं, बस इतनी सी फर्माइश है,
अब तस्वीर से नहीं, तफसील से मिलने की ख्वाइश है..!!
ये तो परिंदों की मासूमियत है,
वरना दूसरों के घर अब आता जाता कौन हैं..!!
तुम भी कमाल करते हों,
उम्मीदें इंसान से लगा कर,
शिकवे भगवान से करते हो..!!
मैं वक़्त और तुम क़यामत. देखना,
जब हम मिलेंगे तोह इस कायनात में सब कुछ रुक जायेगा..!!
दुश्मनों की जफ़ा का ख़ौफ़ नहीं,
दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं..!!

Zakir Khan Shayari in English

For God’s sake, never interrupt him.
Never stop him from his freedom,
Because now it’s not me, but if you are her lover then listen,
He doesn’t like it..!!
Standing in the metro waiting for the bus,
What do you see in the deep void while sitting in a rickshaw?
What do you keep thinking with a lost face..!!
I will go away from this world and tell you the story,
Also tell me that before conquering the sea,
How I was defeated by small rivers..!!
I am time and you are doom. Look,
When we meet, everything in this universe will stop..!!
I sell whatever acid I get from the world.
I hang insults on rooftops and sell food to Asma..!!
love a lot,
But do it with self respect..!!
Find your own path and make your own destination,
Don’t make it difficult for him by putting him in books..!!
Your condition: I have to do it only if you accept,
The whole world gives me this convenience..!!
Don’t ask us about the meaning of friendship,
It will shake the hearts of even your enemies..!!
Friendship never lasts longer than a mirror,
This kind of honesty is also not good for relationships..!!
This soul of mine remained wrapped in the embers of your infidelity,
I would not have been on fire like this, had you been mine..!!
She is a very innocent girl, she doesn’t understand the concept of love.
She remains lost in the day, she doesn’t understand my night..!!
My land is deeper than yours,
Let the time come, even the sky will be higher than you..!!
My status has lost to my dreams so many times,
Now he has stopped speaking in between..!!
Now no one holds hands and makes one sit in a gathering again,
The formation of sun from among the stars has its own disadvantages..!!
She came like a butterfly and ruined life,
Whatever impure intentions I had, she made them pure..!!
I am very angry with you, look at me now, right?
I couldn’t find an example of your soft lips and my impressions remain incomplete..!!
Let love remain innocent on the last page of the notebook,
Don’t make it difficult by putting it in books..!!
This is the innocence of birds,
Otherwise who comes to other people’s houses now..!!
I am standing behind myself too,
I have walked so slowly in life,
And who used to come even more cheerful to wake me up,
I am sleeping considering those dreams to be true..!!
I have faithfully followed every tradition of disloyalty,
Find your own path and create your own destination..!!
For your success, we have prepared ourselves like this,
I have put every emotion in the market and made an advertisement..!!
My soul is wrapped in the embers of your loyalty,
Had I not been such a fire, you would have been mine,
The soul of the heart used to burn with every breath,
Maybe your fragrance is spread in the air..!!
I am standing behind myself too,
Life is moving so slowly,
Who used to come even more cheerful to wake me up,
I slept considering those dreams to be true..!!
My land is deeper than yours,
Let the time come, even the sky will be higher than you..!!
you also do wonders,
By placing expectations on humans,
You teach from God..!!
We have forgotten this many times before too,
But I never remembered any of them as much as you..!!
I have some questions which I will ask you only on the day of judgement,
Because before that you and I can talk,
You don’t deserve this..!!
Is it with his little finger,
You also hold hands,
Just like she used to hold me..!!
Don’t ask us about the meaning of friendship,
It will shake the hearts of even your enemies..!!
Don’t ask us about the meaning of friendship,
It will shake the hearts of even your enemies..!!
Many people have forgotten us, many before too,
But I never remembered any of them as much as you..!!
Disloyal to every tradition, I have followed it diligently,
Find your own path and make your own destination..!!
Whenever you feel like reading the poems written by me,
There is only one place where I have never lied..!!
Love me a lot,
But do it with respect for yourself..!!
That relationship is like two mountains for me,
But there is a table of 19 for him,
I can’t forget, I have to remind him..!!
My status has lost to my dreams so many times,
Now he has stopped speaking in between..!!
When my dreams from the sky fell on the earth,
Zameen asked what were you trying to become..!!
I have faithfully followed every tradition of disloyalty,
Find your own path and create your own destination..!!
I have been holding the boat for a long time,
I shudder at the sea more than the storm..!!
It is not necessary that every hard work brings success.
Some efforts are also made for preparation..!!
Now that fire is no more, I look like a flame,
The color is like everyone else’s and it smells like everyone else’s..!!
That relationship is a two-way street for me,
It became a table of seventeen for him,
Had to be reminded by him, I can’t forget..!!
My Lord liked your being unfaithful.
You left me and saw where I came..!!
Your beauty has got this fame because of my love,
Where was there any mention of you, before my story..!!
They were looting the treasures under the shadow of their parents,
For the sake of the kudis, we left home..!!
If you don’t believe then try it separately.
You will meet everyone but only in our search..!!
I have seen hunger, I have seen contemptuous eyes,
I have seen the names of roads changing as I walk..!!
Is that fire no longer there, that burns brightly?
The color is the same, everyone smells the same..!!
O big city, I owe you a lot.
I will repay everything one by one..!!
If you don’t believe then try it separately.
You will meet everyone but only in our search..!!
There are many good people like us before,
But I don’t remember any of them as much as you..!!
Have you seen the hopeful insult?
I bow to my parents even if I don’t want to,
Self respect has seen dreams broken,
I have seen my loved ones being left behind..!!
I have two or four dreams which I want away from the sky,
Life may remain anonymous, but I want death to be famous..!!
Tell me all the bad things, tell me all the good things too,
Tell me my story when you leave this world..!!
Tell everyone that I was very mean,
I was standing alone at a big place..!!
Even if you promise to say good night to me, you will remain online,
I try to explain myself but it hurts a lot here..!!
I keep waiting for your time,
I remain in love even though I live in the state,
And my luck will change with just one wish of yours,
Otherwise I remain in defeat even after winning..!!
I have crossed the barren land of my condition,
Don’t worry, I will not burn in the sun of fame..!!
Do you know if those locks of hair are twisted a thousand times,
If he doesn’t ride, he can’t survive.
His heart is so clean,
One cannot survive on these activities..!!
The soul of the heart burns with every breath,
Maybe your fragrance is spread in the air..!!
I have remembered the unfaithful without any reason,
Too much time has been wasted on wrong people..!!
The heart should keep crying and tears should not flow from the eyes,
Such tradition of love broke my heart..!!
Now that fire is no more, nor do I have a body like flames,
The color is like everyone else’s, I am the most beautiful..!!
For a long time I have been holding the boat in the whirlpool,
I shudder more than the storm..!!
Buy it now, I don’t have anything more valuable than this.
That we have sold the book in which the rose was kept..!!
They were very expensive but will not come cheap now.
Will not come in your way after today..!!
Those relations which were of blood have left them,
Suku was in front of my eyes and came with his face turned,
And they were looting the treasures under the shadow of their parents,
We left home for the sake of pennies..!!
I believe that you have no less experience of love,
We have also seen many butterflies in the garden..!!
This is a letter addressed to that vase,
Whose flower was once ours,
Now you are his mukhtar, so listen to this.
He doesn’t like it..!!
Many people have forgotten us, many have forgotten us before,
But I never remembered any of them as much as you..!!
This life is in great dilemma,
Was your meeting love or deception..!!
The world talks about hearts,
But even today love starts from the face only..!!
I have remembered the unfaithful without any reason,
Too much time has been wasted on wrong people..!!
I agree that you also don’t have the experience of love,
We too have seen many butterflies in the bugs..!!
Make thousands of joys in such a way that the joy runs out of breath,
A lot of desires came out but still less came out..!!
Webjah has remembered Webfao,
Have wasted a lot of time on wrong people..!!
Now that fire is no more, nor does it burn like a flame,
The color is the same as everyone else’s, I am the one who smells the most,
I have been holding the boat in the whirlpool for a long time,
I am more afraid of Sahil than the storm..!!
The difference between my own and his desires was this,
I just wanted him and her the whole time..!!
I had loved, I had loved rightly,
If you remain single then it is right..!!
There is nothing more than life, this is just a request,
Now there is a desire to meet the details, not the picture..!!
This is the innocence of birds,
Otherwise who comes to other people’s houses now..!!
you also do wonders,
By placing expectations on humans,
You teach from God..!!
I am time and you are doom. Look,
When we meet, everything in this universe will stop..!!
There is no fear of attack from enemies,
Afraid of friends’ loyalty..!!

Share this post

Similar Posts